कृष्ण भजन डायरी लिरिक्स || krishna bhajan lyrics hindi

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

1. मैं तो चली रे पिया के देश

मैं तो चली रे पिया के देश,
हो मै तो चली रे पिया के देश,
ये देश हुआ प्रदेश,
मै तो चली रे पिया के देश……

पिया मिलन को तरस रही थी,
छम छम अंखिया बरस रही थी,
है धर जोगन का भेष,
मै तो चली रे पिया के देश…..

बीते दिवस कई बीती रतिया,
मन की कहूंगी उनसे सारी बतिया,
हो लागि क्या क्या मन को ठेस,
मै तो चली रे पिया के देश…….

आया बुलावा मेरे पिया का,
मन उपवन हरषाये जीया का,
हो छाया आनंद मन में विशेष,
मै तो चली रे पिया के देश…….

चित्र विचित्र आई बेला मिलन की,
दुल्हन बनुगी में तो सांवरे सजन की,
अब क्या रह गया शेष,
मै तो चली रे पिया के देश……

मै तो चली रे पिया के देश,
हो मैं तो चली रे पिया के देश,
ये देश हुआ प्रदेश,
मै तो चली रे पिया के देश……

2. मेरो बाँके बिहारी लाल खेले रंग होली

मेरो बाँके बिहारी लाल खेले रंग होली,
रंग होली रे गुलाल होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली……

हाथ लिए कंचन पिचकारी,
खेल रहयो मेरो बाँके बिहारी,
हाथ लिए कंचन पिचकारी,
खेल रहयो मेरो बाँके बिहारी
और झोली भरी गुलाल,
खेले रंग होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली……

वृन्दावन की है शोभा है न्यारी,
रंग भरे मोहन रँगीली श्यामा प्यारी,
वृन्दावन की है शोभा है न्यारी,
रंग भरे मोहन रँगीली श्यामा प्यारी,
और है रही सखी निहाल,
खेले रंग होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली……

कुंजन माहि मची है होरी,
जीती श्यामा कुंवर किशोरी,
कुंजन माहि मची है होरी,
जीती श्यामा कुंवर किशोरी,
मेरे कुञ्ज बिहारिन वाल,
खेले रंग होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली……

होरी है ये रस की रसीली,
रस की रसीली चटक मटकीली,
होरी है ये रस की रसीली,
रस की रसीली चटक मटकीली,
पागल ते चले नही चाल,
खेले रंग होली,
मेरो बांके बिहारी लाल खेले रंग होली……

3. मुरली वाले तेरा शुक्रिया

मुरली वाले तेरा शुक्रिया,
तूने जीवन में सब कुछ दिया,
शुक्रिया शुक्रिया शुक्रिया,
तूने जीवन में सब कुछ दिया……

तूने भाग्य को मेरे संवारा,
आयी मुश्किल तो दिया सहारा,
हाथ सर पे मेरे रख दिया,
शुक्रिया शुक्रिया शुक्रिया,
तूने जीवन में सब कुछ दिया……

मान इज्जत है तूने बढ़ाई,
तेरी कृपा से भक्ति है पाई,
मेरा खुशियो से घर भर दिया,
शुक्रिया शुक्रिया शुक्रिया,
तूने जीवन में सब कुछ दिया……

मेरे पर्दा गुनाहो पे डाला,
तूने गिरते हुए को संभाला,
ओ प्यार जीवन में अब भर दिया,
शुक्रिया शुक्रिया शुक्रिया,
तूने जीवन में सब कुछ दिया……

दीन दुखियो की विपदा तू टाले,
नैया मझधार से तू निकाले,
डूबतों को किनारा दिया,
शुक्रिया शुक्रिया शुक्रिया,
तूने जीवन में सब कुछ दिया……

4. जिस घड़ी मेरी ये जान निकले

जिस घड़ी मेरी ये जान निकले,
उस वक्त चले तुम आना,
एकेले मत आना नन्दलाला,
संग राधा जी को लाना,
जिस घड़ी मेरी ये जान निकले,
उस वक्त चले तुम आना……

हँसते हँसते निकले दम,
बिछुड़न का मत देना गम,
छवि दिखला देना प्यारी,
ओ मेरे बांके बिहारी,
जोड़ी हो जुगल सन्मुख मेरे,
तुम आकर दरश दिखाना,
जिस घड़ी मेरी ये जान निकले,
उस वक्त चले तुम आना……

चलने की हो तैयारी,
नैनन में हो छवि तुम्हारी,
इतनी है विनय हमारी,
ओ मेरे बांके बिहारी,
आ जाना तुम प्रानन प्यारे,
मत करना कोई बहाना,
जिस घड़ी मेरी ये जान निकले,
उस वक्त चले तुम आना……

जब प्राण कण्ठ में आवे,
दिल तुझको श्याम बुलावे,
तुमसे है मेरी यारी,
ओ मेरे बांके बिहारी,
जीवन तेरा तेरे अर्पण,
ओ मुरली वाले कान्हा,
जिस घड़ी मेरी ये जान निकले,
उस वक्त चले तुम आना……

पागल की तुमसे विनती,
हर घडी सांस को गिनती,
बीती ये उमरिया सारी,
ओ मेरे बांके बिहारी,
मर मर के जनम लू दुनिया में,
तेरा भूलू नही तराना,
जिस घड़ी मेरी ये जान निकले,
उस वक्त चले तुम आना……

5. बल्ले बल्ले साडिया नी खाँदा रोटिया

बल्ले बल्ले साडिया नी खाँदा रोटिया,
ओ ता खाँदा है मखना दे पेड़े, साडिया……..

मीरा वेहड़े जांदा है ते जहर प्याला पिंदा है,
जहर प्याला पिंदा है जी जहर प्याला पिंदा है,
ओ साड्डे वेहड़े आके नखरे दिखांदा, साडिया…….

सबरी वेहड़े जांदा है ते झूठे बेर खाँदा है,
झूठे बेर खाँदा है जी झूठे बेर खाँदा है,
ओ साड्डे वेहड़े आके नखरे दिखांदा, साडिया…….

धन्ने वेहड़े जांदा है ते साग रोटिया खाँदा है,
साग रोटिया खाँदा है जी साग रोटिया खाँदा है,
ओ साड्डे वेहड़े आके नखरे दिखांदा, साडिया…….

6. ना पकड़ो हाथ मनमोहन

ना पकड़ो हाथ मनमोहन,
कलाई टूट जाएगी,
जवाहिर की जड़ी चूड़ी,
जवाहिर की जड़ी चूड़ी,
हमारी फुट जाएगी,
ना पकड़ो हाथ मनमोहन,
कलाई टूट जाएगी……

जबरदस्ती करोगे जो,
ना पाओगे श्याम रत्तीभर,
जबरदस्ती करोगे जो,
ना पाओगे श्याम रत्तीभर,
धरी है शीश पे मटकी,
हमारी फुट जाएगी,
ना पकड़ो हाथ मनमोहन,
कलाई टूट जाएगी……

बड़े तुम ढीट नंदलाला,
पड़ा होगा नही पाला,
बड़े तुम ढीट नंदलाला,
पड़ा होगा नही पाला,
फिर आखिर को यही होगा,
मोहब्बत छूट जाएगी,
ना पकड़ो हाथ मनमोहन,
कलाई टूट जाएगी……

ये कहना था श्री राधा का,
लपकना था बिहारी का,
ये कहना था श्री राधा का,
लपकना था बिहारी का,
गले में डाल बईया,
बला से टूट जाएगी,
ना पकड़ो हाथ मनमोहन,
कलाई टूट जाएगी……

ना पकड़ो हाथ मनमोहन,
कलाई टूट जाएगी,
जवाहिर की जड़ी चूड़ी,
जवाहिर की जड़ी चूड़ी,
हमारी फुट जाएगी,
ना पकड़ो हाथ मनमोहन,
कलाई टूट जाएगी……

7. वो काली कमली वाला मेरा यार चाहिए

तर्ज – दिल दीवाने का डोला

मेरे इस टूटे दिल को आधार चाहिए,
मेरे इस पगले दिल को आधार चाहिए,
वो काली कमली वाला मेरा यार चाहिए…….

समझाना बड़ा मुश्किल है,
आखिर तो दरदे दिल है,
सच्चा दरबार लगा है,
ये कान्हा की महफ़िल है,
नैनो को बंसी वाले का हो ओ,
नैनो को बंसी वाले का,
नैनो को बंसी वाले का आधार चाहिए,
वो काली कमली वाला मेरा यार चाहिए……

कुछ कमी ना अरमानो की,
तेरे इन दीवानो की,
मुझको मदहोश बनाये,
ये कटार तेरे नैनो की,
दिल नाच उठे वो हो ओ,
दिल नाच उठे वो,
दिल नाच उठे वो सांवरिया सरकार चाहिए,
वो काली कमली वाला मेरा यार चाहिए……

जितना खिचाव चितवन में,
होता जो मेरे मन में,
फिर तो ये दिल दीवाना,
उड़ जाता निल गगन में,
हाथो में मेरे हो ओ,
हाथो में मेरे,
हाथो में मेरे यार की पतवार चाहिए,
वो काली कमली वाला मेरा यार चाहिए……

भक्तो के तुम प्यारे हो,
तुम जिगरी दिल वाले हो,
कितनो पर डोरे डाले,
तेरे ये मस्त नज़ारे,
यशोदा नंदन के हो ओ,
यशोदा नंदन के,
यशोदा नंदन के नैनो का दीदार चाहिए,
वो काली कमली वाला मेरा यार चाहिए…….

8. झूम जाता है मेरा दिल झूम जाता है

झूम जाता है मेरा दिल झूम जाता है,
झूम जाता है मेरा दिल झूम जाता है,
कन्हैया तुम को देख के दिल झूम जाता है…..

बांकी अदाएं चैन चुराए,
बांकी अदाएं चैन चुराए,
तेरी प्यारी बतिया मन को लुभाये,
मेरे हमदम तू हरपाल याद आता है,
कन्हैया तुमको देख के दिल झूम जाता है……

कैसा ये रिश्ता हमारा तुम्हारा,
कैसा ये रिश्ता हमारा तुम्हारा,
अपना समझ के जब भी पुकारा,
चेहरा आँखों के आगे घूम जाता है,
कन्हैया तुमको देख के दिल झूम जाता है…..

दीवाना बनाने की कला जानते हो,
दीवाना बनाने की कला जानते हो,
दीवाना बनाकर ही मानते हो,
बनवारी दिल से तेरे गीत गाता है,
कन्हैया तुमको देख के दिल झूम जाता है…….

9. ओ बंसीवाले सांवरा बड़ी देर लगाए

तर्ज – चार दिनों का प्यार ओ रब्बा (लम्बी जुदाई)

( बिछड़े अभी तो हम बस कल परसों,
जिऊंगी मैं कैसे इस हाल में बरसों,
राधा पुकारे मेरे श्याम कन्हाई,
आजा देर लगाए॥ )

ओ बंसीवाले सांवरा बड़ी देर लगाए,
देर लगाए,
भक्त पुकारे मेरे श्याम कन्हाई,
आजा देर लगाए,
ओ बंसीवाले सांवरा बड़ी देर लगाए……

एक तो श्याम मेरे पास नहीं रे,
दूजे मिलन दी कोई आस नहीं रे,
दूजे मिलन दी कोई आस नहीं रे,
उसपे ये सावन आया, हाय
उसपे ये सावन आया,
आग लगायी,
आजा देर लगाए,
ओ बंसीवाले सांवरा बड़ी देर लगाए,
देर लगाए,
भक्त पुकारे मेरे श्याम कन्हाई,
आजा देर लगाए,
ओ बंसीवाले सांवरा बड़ी देर लगाए……

चिठ्ठीये नी दर्द फ़िराक़ वालिये,
ले जा ले जा संदेशा सोहणे यार दा
तेनु वासता दिल दी पुकार दा
ले जा ले जा संदेशा सोहणे यार दा….

बाग उजड़ गए खिलने से पहले,
श्याम बिछड़ गए मिलने से पहले,
कोयल की कुक ने हुक लगाई,
आजा देर लगाए,
ओ बंसीवाले सांवरा बड़ी देर लगाए,
देर लगाए,
भक्त पुकारे मेरे श्याम कन्हाई,
आजा देर लगाए,
ओ बंसीवाले सांवरा बड़ी देर लगाए…..

ओ बंसीवाले सांवरा बड़ी देर लगाए,
देर लगाए,
भक्त पुकारे मेरे श्याम कन्हाई,
आजा देर लगाए,
ओ बंसीवाले सांवरा बड़ी देर लगाए…..

10. नमो नमो जय श्री वृन्दावन

नमो नमो जय श्री वृन्दावन,
अरे रस बरसत घनघोर,
नमो नमो जय कुञ्ज महल नित,
नमो नमो या में सुख होरी,
नमो नमो श्री कुञ्ज बिहारी नाम,
नमो नमो प्रीतम चित चोरी,
नमो नमो श्री हरिदासी,
नमो नमो इनकी जोड़ी॥ )

रंग भरयो लाला ने,
रंगीली प्यारी राधा राधा,
रंगीली प्यारी राधा,
रंग भरयो लाला ने,
रंगीली प्यारी राधा……

तीरथ सुता के पग पग पे प्रयाग जहाँ,
केशव के केलकुञ्ज कोटि कोटि काशी,
यमुना में जगन्नाथ रेणुका में रामेश्वर,
तरु तरु मे बसत जहा अयोध्या निवासी है,
गोपिन के द्वार द्वार द्वार पे है हरिद्वार,
बद्रि केदारनाथ बसे दास दासि है,
स्वर्ग अपबर्ग व्यथा लेकर करेगे क्या,
जानते नहि हो हम वृन्दावन वासी है,
जानते नहि हो हम वृन्दावन वासी है,
रंगीली प्यारी राधा, रंगीली प्यारी राधा,
रंग भरयो लाला ने,
रंगीली प्यारी राधा……

एक बार अयोध्या जाओ दो बार हरिद्वार,
तीन बार जाकर त्रिवेणी में नहाओगे,
चारबार चित्रकूट नौबार नाशिक में,
बारबार जाके बद्रीनाथ घूम आओगे,
कोटि बार केदारनाथ काशी रामेश्वर,
गया जगन्नाथ आदि चाहे जहाँ जाओगे,
होंगे प्रत्यक्ष दर्श यहाँ श्याम श्यामा श्याम के,
वृन्दावन सा कही आनंद नही पाओगे,
वृन्दावन सा कही आनंद नही पाओगे,
रंगीली प्यारी राधा, रंगीली प्यारी राधा,
रँग भरयो लाला ने,
रंगीली प्यारी राधा……

मोर जो बनाओ तो बनाओ वृन्दावन को,
नाच नाच तोक तोक तुम्ही को रिझाउंगा,
बन्दर बनाओ तो बनाओ श्री वृन्दावन को,
कूद कूद फांद अच्छी दौड़न दिखाउंगो,
भिक्षुक बनाओ तो बनाओ ब्रज मंडल को,
टूक हरि भक्तन सो मांग मांग खाउंगो,
आठो याम श्याम श्यामा श्याम वहां गाऊंगो,
आठो याम श्याम श्यामा श्याम वहां गाऊंगो,
रंगीली प्यारी राधा, रंगीली प्यारी राधा,
रँग भरयो लाला ने,
रंगीली प्यारी राधा…..

रंग भरयो लाला ने,
रंगीली प्यारी राधा राधा,
रंगीली प्यारी राधा,
रंग भरयो लाला ने,
रंगीली प्यारी राधा……

इन्हें भी पढ़ें:-

11. मेरी नैया भंवर में पड़ी

तर्ज – जिंदगी की ना टूटे लड़ी

मेरी नैया भंवर में पड़ी,
तुमको आना पड़ेगा हरि,
आज विपदा क्यों आन पड़ी,
आज विपदा क्यों आन पड़ी,
मुझे आके सम्भालो हरि,
मेरी नईया भंवर में पड़ी,
तुमको आना पड़ेगा हरि…..

तेरे होते ये क्या हो रहा,
नैया डूबेगी अब लग रहा,
मुझको ऐसा क्यों लगता है श्याम,
मेरी अर्जी ना तू सुन रहा,
अब जरुरत है आन पड़ी,
तुमको आना पड़ेगा हरि,
मेरी नईया भंवर में पड़ी,
तुमको आना पड़ेगा हरि……

मैंने तुझको था साथी चुना,
अब ढूँढू मैं किसको बता,
तूने हरपल सहारा दिया,
क्या गलती मेरी तू बता,
मेरी पकड़ो कलाई अभी,
तुमको आना पड़ेगा हरि,
मेरी नईया भंवर में पड़ी,
तुमको आना पड़ेगा हरि…..

तेरे होते ना चिंता मुझे,
सोच के था मैं आगे बढ़ा,
गर डूबा भवर में प्रभु,
पंकज पूछेगा तुमसे सदा,
लाज जाएगी तेरी हरि,
तुमको आना पड़ेगा हरि,
मेरी नईया भंवर में पड़ी,
तुमको आना पड़ेगा हरि…..

मेरी नैया भंवर में पड़ी,
तुमको आना पड़ेगा हरि,
आज विपदा क्यों आन पड़ी,
आज विपदा क्यों आन पड़ी,
मुझे आके सम्भालो हरि,
मेरी नईया भंवर में पड़ी,
तुमको आना पड़ेगा हरि……

12. आजा श्यामा बंसरी बजान वालेया नंदलाला

आजा श्यामा बंसरी बजान वालेया नंदलाला,
नंदलाला मेरे गोपाला,
आजा श्यामा बंसरी बजान वालेया…..

पिता ने प्रह्लाद नु पहाड़ों सुटेया,
सुता होया प्यार ऐथे जाग उठेया,
हो फुलां बाली सेज ते बिछान वालेया नंदलाला,
नंदलाला मेरे गोपाला,
आजा श्यामा बंसरी बजान वालेया…..

द्रोपदा ने सभा विच बाजां मारियां,
द्वारका च बैठे सुन लईयां सारिया
हो साड़िया दे ढेर लगान वालेया नंदलाला,
नंदलाला मेरे गोपाला,
आजा श्यामा बंसरी बजान वालेया…..

मिलने नू तेरा यार सुदामा आया सी,
तू भी श्यामा झोपड़ी दा महल बनाया सी,
यारा नल यारिया निभान वालेया नंदलाला,
नंदलाला मेरे गोपाला,
आजा श्यामा बंसरी बजान वालेया…..

रथ नु चलान बाला रथबान सी,
सानु भी तां चाहिए ऐसा भगवान सी,
सारथी दा रूप बनान वालेया नंदलाला,
नंदलाला मेरे गोपाला,
आजा श्यामा बंसरी बजान वालेया…..

13. जल्दी जल्दी सांवरे बुलाया करो

जल्दी जल्दी सांवरे बुलाया करो,
प्यारा प्यारा दरस दिखाया करो,
जल्दी जल्दी सांवरे बुलाया करो,
मीठी मीठी मुरली सुनाया करो,
जल्दी जल्दी सांवरे…….

शिमला मसूरी हम नहीं जाएँ,
हमको तो वृन्दावन ही भाये,
जल्दी जल्दी सांवरे बुलाया करो,
मथुरा के दर्शन कराया करो,
जल्दी जल्दी सांवरे……..

DJ की धुन पे हम नहीं नाचे,
हम तो मुरली की धुन पे ही नाचे,
जल्दी जल्दी सांवरे बुलाया करो,
हमारे संग रास रचाया करो,
जल्दी जल्दी सांवरे……….

फिल्मी गानो को हम नहीं गायें,
हम तो श्याम भजन ही गायें,
जल्दी जल्दी सांवरे बुलाया करो,
हरी नाम कीर्तन कराया करो,
जल्दी जल्दी सांवरे……..

14. श्री राधे गोविन्दा गोपाल

श्री राधे गोविन्दा गोपाल, राधा वर माधव हरे ।

मोरमुकुट सिर पेच विराजे, कानन में कुण्डल छविछाजे ।
ठोड़ी पै हीरा लाल, राधा वर माधव हरे ॥१॥

बड़ी बड़ी अंखियन कजरा सोहे, लाल अधर लाली मन मोहे ।
गल वैजन्ती माल, राधा वर माधव हरे ॥२॥

मीठी मीठी वंशी बजावै, देखूं तो जियरा ललचावै।
बड़े गजब की चाल, राधा वर माधव हरे ॥३॥

यमुना किनारे कदमन छैया, श्याम चरावत डोलै गैया ।
संग सोहे ब्रज ग्वाल, राधा वर माधव हरे ॥४॥

सदा संग वषभानु दुलारी, श्रीराधा प्राणन ते प्यारी ।
रंग रंगीली बाल, राधा वर माधव हरे ॥५॥

15. तेरे दर आन बालेया दी बेड़ी कदे ना अड़ी

तेरे दर आन बालेया दी बेड़ी कदे ना अड़ी,
हो बेड़ी कदे ना अड़ी भवसागर तरी….

जदो राणा ने मीरा नू नाग भेजया,
मीरा हार समझ गल पा छडेया,
हो बन गई बन गई श्यामा जी, ओ ता फुलां दी लड़ी,
तेरे दर आन बालेया दी बेड़ी कदे ना अड़ी…..

जदो राणा ने मीरा नू जहर भेजया,
मीरा अमृत समझ के पी छडेया,
हो आजो आजो श्याम जी देर हो गईं ऐ बड़ी,
तेरे दर आन बालेया दी बेड़ी कदे ना अड़ी…..

हो जदो राणा ने मीरा नू बाहर कडेया,
मीरा रखेया भरोसा दिल नईयो छडेया,
हो मिल गई मिल गई श्यामा जी वृन्दावन दी गली,
तेरे दर आन बालेया दी बेड़ी कदे ना अड़ी…..

16. रोते रोते आते है हंसते हंसते जाते है

रोते रोते आते है हंसते हंसते जाते है, करते पूरी आशा ओ सदा,
मन से बुलाले तू दिल में बिठाले तू दूर हो जाएगी विपदा,
रोते रोते आते है……

देखो ओ समाए हर प्राणी जगत के दिल में,
आते जब बुलाते जब, बुलाए कोई मुश्किल में,
गज को बचाया है अपना बनाया है, हुए फिर वहां से विदा,
मन से बुलाले तू दिल में बिठाले तू दूर हो जाएगी विपदा,
रोते रोते आते है……

आया जो शरण में उसका उद्धार किया है,
नैया उस कन्हैया ने कितनों की पार किया है,
पार लगाना तू दर्श दिखाना तू दुनियां से जब हूं विदा,
मन से बुलाले तू दिल में बिठाले तू दूर हो जाएगी विपदा,
रोते रोते आते है……

डॉ सजन सोलंकी

17. दिखवा है ये धन दौलत इसे बस प्रेम भाता है

दिखवा है ये धन दौलत इसे बस प्रेम भाता है,
अगर हो प्रेम सच्चा तो ये नंगे पांव आता है,
ये रहता हरदम खड़ा प्रेमियों के लिए…..

प्रेम मीरा ने ऐसा अनोखा किया,
भर के प्याला हला हल वो विष पी गई,
धन दौलत महल राज को त्याग के,
सांवरे की वो एसी दीवानी हुई,
नाची मस्ती में वो सांवरे के लिए,
दिखवा है ये धन………

भाव नरसी के जैसा जगाये कोई,
नानी बाई सी करुना दिखाए कोई,
उसको अपनों के जैसे बुलाये कोई,
गाके भजनों से उसको रिझाये कोई,
फिर से आयेगा ये मायेरे के लिए,
दिखवा है ये धन…..

बैठ कर देख ये आमने सामने,
बात बिगड़ी हुई है तो बन जायेगी,
जन्मो जन्मो का बिगड़ा मुकदर तेरा,
यहाँ पल भर में किस्मत सवर जायेगी,
फिर न बिगड़े गी ये उम्र भर के लिए,
दिखवा है ये धन……

ऐसा दानी दयालु ये दातार है,
इसकी माया का पाया नही पार है,
धर्वु प्रहलाद के वास्ते आ गया,
आके कर्मा का ये खिचड़ा खा गया,
संजू आया है हरदम सभी के लिए,
दिखवा है ये धन…..

18. श्यामा जू मेरी श्यामा जू

श्यामा जू मेरी श्यामा जू,
मेरी प्यारी प्यारी श्यामा जू…..

जब जब तुम्हे पुकारू मैं,
तेरी और निहारु मैं,
तुम सामने मेरे आती हो,
श्यामा जू मेरी श्यामा जू,
मेरी प्यारी प्यारी श्यामा जू…..

नित तेरा ध्यान लगाऊं मैं,
पग पग पे तुझे ध्याऊँ मैं,
अब कृपा ऐसी कर दो ना,
चरणों की सेवा दे दो ना,
श्यामा जू मेरी श्यामा जू,
मेरी प्यारी प्यारी श्यामा जू…..

बरसाने में बस जाउंगी,
महलो की सोहनी लगाउंगी,
और तुझको लाड लड़ाउंगी,
ब्रज रज को छोड़ ना जाउंगी,
श्यामा जू मेरी श्यामा जू,
मेरी प्यारी प्यारी श्यामा जू…..

अँखियाँ दर्शन की प्यासी मेरी,
श्यामा को रख लो दासी तेरी,
अपना कब मुझे बनाओगी,
आँचल में मुझे छुपाओगी,
श्यामा जू मेरी श्यामा जू,
मेरी प्यारी प्यारी श्यामा जू……

19. कल राती सुपने च होई मुलाक़ात वे

कल राती सुपने च होई मुलाक़ात वे,
मेरे वस च नही जज्बात…..

कुंज गली विच नचदी सी मेरे गले विच पाया ढोल सी,
राधा नाम मैं गा रही थी मेरे सतगुरु मेरे कोल सी,
कल राती सुपने च होई मुलाक़ात वे…..

ओ तेरियां ही गल्ला करदी सी वे मैं करदी करदी रो पई,
सुध बुध मेनू भूल गई वे श्यामा याद तेरी दे विच सो गई,
कल राती सुपने च होई मुलाक़ात वे…..

वृन्दावन मेरी झोपड़ी श्यामा आसे पासे संत वे,
पीला पितांबर वेखया ते भूल गई सारे ग्रंथ वे,
कल राती सुपने च होई मुलाक़ात वे…..

यमुना जि ठा ठा मारदी ते कोले ईक कदम दा पेड़ वे,
तिरछी चितवन वेख के श्यामा छूटे चौरासी गेड़े वे,
कल राती सुपने च होई मुलाक़ात वे…..

हथ तेरे दे विच बांसुरी वे श्यामा गल बैजंती माला वे,
मोर मुकट तो जान गई श्यामा ए ता दिल दिया जानन वाला वे,
कल राती सुपने च होई मुलाक़ात वे…..

जद मुरली विच फुकेया वे श्यामा रस बुल्लिया चो डुल पया,
दोहि बुन्दा पितिया सि ते सुपना मेरा खुल गया वे,
कल राती सुपने च होई मुलाक़ात वे…..

20. जा.. रे जा जा रे बदरा तू कान्हा के अंगना

जा.. रे जा जा रे बदरा तू कान्हा के अंगना,
तुझसे बोले ये राधा, किया कान्हा ने वादा,
खड़ी यमुना किनारे, राधा बाट निहारें,
आने को कह गए काहे न आए जाके तू श्याम को लारे,
जा..रे जा जा रे बदरा…..

फूल ये कलिया बिरज की गलियां, हंसती है मुझपे,
हंसे जमाना हवा भी ताना, कसती है मुझ्पे,
दिन भी ढला शाम आई टूटी ना ये आशा,
तेरे मिलन को कान्हा, मन मेरा प्यासा,
कान्हा से कहना बोले ये राधा, आजा दरस दिखलारे,
जा..रे जा जा रे बदरा…..

कान्हा के बिन कटते ना दिन कैसे समझाऊं,
बाते मन की प्रीत लगन की केह नहीं पाऊं,
दोनो जहां को भूली, भोली राधा रानी,
कान्हा कान्हा रटे है ये पगली दीवानी,
मेरा संदेशा जा पहुंचाना चैन ह्रदय का आरे।।
जा..रे जा जा रे बदरा…..

डॉ सजन सोलंकी

21. मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो कि हम हैं तुम्हा

मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो कि हम हैं तुम्हारे,
यूं तो दुनियां में भटका बहुत हूं, अब आया हूं दर पे तुम्हारे,
मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो……

जब से देखी है सूरत तुम्हारी, नैना कजरारे लट घुंघराली,
होश खो बैठे हम खुद ही अपना, कोई भाए सिवा ना तुम्हारे,
मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो……

जब भी तुम मीठी बंसी बजाते गोपियों के दिलो को चुराते,
कहे बंसी को सौतन ये गोपीं, हर पल रहती ये संग मे तुम्हारे,
मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो……

आपसे एक अर्जी है प्यारे सुन लो मेरी आंखों के तारे,
जब भी जाना हो हमको जहा से साथ रहना हमेशा हमारे,
मेरे बांके बिहारी सवारियां अब तो कह दो……

22. श्याम के सिवा कहीं

श्याम के सिवा कहीं
दिल ना लगाना,
नहीं तो पड़ेगा तुझे,
नहीं तो पड़ेगा तुझे,
आंसू बहाना,
श्याम के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना……

जो श्याम का गुणगान किया है,
सच्चा जीवन वो ही जिया है,
सुमिरन के बल से तुझे,
सुमिरन के बल से तुझे,
मुक्ति है पाना,
श्याम के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना……

बालापन गया आज जवां है,
बीत गया अब समय कहाँ है,
सोच समझ के,
सोच समझ के,
वक्त गंवाना,
श्याम के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना……

आया जहाँ से वही फिर है जाना,
वहां साथ जाए ना पैसा खजाना,
पूछेगा तो क्या,
पूछेगा तो क्या,
करोगे बहाना,
श्याम के सिवा,
कहीं दिल ना लगाना……

23. कान्हा बुलाए राधा नहीं आए

कान्हा बुलाए राधा नहीं आए,
आजा मेरी प्यारी राधे सावन के झूले पड़े…..

मैं कैसे आऊं टीका मेरा चमके,
टीटी को छुपाकर लंबा घूंघट डालके,
चली आओ प्यारी राधे सावन के झूले पड़े……

मैं कैसे आऊं झुमके मेरे चमके,
झुमके को छुपाकर लंबा घूंघट डालके,
चली आओ प्यारी राधे सावन के झूले पड़े……

मैं कैसे आऊं हरवा मेरा चमके,
हरवा को छुपाके लंबा घूंघट डाल के,
चली आओ प्यारी राधे सावन के झूले पड़े……

मैं कैसे आऊं कंगन मेरे चमके,
कंगन को छुपाके लंबा घूंघट डाल के,
चली आओ प्यारी राधे सावन के झूले पड़े……

मैं कैसे आऊं पायल मेरी चमके,
पायल को उतारके लंबा घूंघट डालके,
चली आओ प्यारी राधे सावन के झूले पड़े……

24. मेरे श्याम ये बता दे

मेरे श्याम ये बता दे,
ये तान कौन सी है,
जिसे सुन के सारी दुनिया,
तेरे दर पे झूमती है…..

मेरे दिल में बस गया है,
तेरा अजीज चेहरा,
दिलकश तेरी अदाएं,
जुल्फो का घना पहरा,
हंस कर के मोह लेते,
मुस्कान कौन सी है,
मेरे श्याम ये बता दे,
ये तान कौन सी है,
जिसे सुन के सारी दुनिया,
तेरे दर पे झूमती है……

जादू भरी निगाहें,
करती है क्या इशारा,
बाहों में भरलू तुमको,
लगता है मुझको प्यारा,
आती है तेरी मुझको,
ये याद कौन सी है,
मेरे श्याम ये बता दे,
ये तान कौन सी है,
जिसे सुन के सारी दुनिया,
तेरे दर पे झूमती है……

तेरी अदाएं कर गयी,
घायल हमारे दिल को,
मुस्कान तेरी कान्हा,
भाये हमारे दिल को,
कजरारी तेरी आँखे,
ये नजर कौन सी है,
मेरे श्याम ये बता दे,
ये तान कौन सी है,
जिसे सुन के सारी दुनिया,
तेरे दर पे झूमती है……

25. मुझ पर भी दया की कर दो नज़र

तर्ज – श्यामा आन बसों वृंदावन में

मुझ पर भी दया की कर दो नज़र,
ऐ श्याम सुंदर ऐ मुरलीधर,
कुछ दीनों के दुःख की लेलो खबर,
ऐ श्याम सुंदर ऐ मुरलीधर……

आरत जन तुमको पुकार रहे,
आने की बाट निहार रहे,
सिर छिपा के यहाँ बैठे नटवर,
ऐ श्याम सुंदर ऐ मुरलीधर,
मुझ पर भी दया कि कर दो नज़र,
ऐ श्याम सुंदर ऐ मुरलीधर…..

ब्रजबाला व्याकुल रहती है,
ग्वालों की टोली कहती है,
कब आओगे नटवर बनकर,
ऐ श्याम सुंदर ऐ मुरलीधर,
मुझ पर भी दया कि कर दो नज़र,
ऐ श्याम सुंदर ऐ मुरलीधर……

जिस बंसी ने प्रेम प्रकाश किया,
रसदायक रास बिलास किया,
बज जाए वही बंसी घर घर,
ऐ श्याम सुंदर ऐ मुरलीधर,
मुझ पर भी दया कि कर दो नज़र,
ऐ श्याम सुंदर ऐ मुरलीधर……

बिसरा दो इन्हें या सम्हालो इन्हें,
ठुकरा दो चाहे अपना लो इन्हें,
दृग बिन्दु है आपके पेशे नज़र,
ऐ श्याम सुंदर ऐ मुरलीधर,
मुझ पर भी दया कि कर दो नज़र,
ऐ श्याम सुंदर ऐ मुरलीधर……

26. दर्दे दिल की दवा दीजिये

दर्दे दिल की दवा दीजिये,
मेरे प्यारे,
दर्दे दिल की दवा दीजिए,
थोड़ा सा मुस्कुरा दीजिए,
मेरे प्यारे,
दर्दे दिल की दवा दीजिये……

मेरा दिल आपका घर हुआ,
मेरे प्यारे,
मेरा दिल आपका घर हुआ,
आते जाते रहा कीजिये,
मेरे प्यारे,
आते जाते रहा कीजिये,
दर्दे दिल की दवा दीजिए,
थोड़ा सा मुस्कुरा दीजिये,
मेरे कान्हा,
दर्दे दिल की दवा दीजिये……

जख्म दुनिया ने जो मुझको दिए,
मेरे प्यारे,
जख्म दुनिया ने जो मुझको दिए,
थोड़ा मरहम लगा दीजिये,
मेरे प्यारे,
थोड़ा मरहम लगा दीजिये,
दर्दे दिल की दवा दीजिए,
थोड़ा सा मुस्कुरा दीजिये,
मेरे कान्हा,
दर्दे दिल की दवा दीजिये……

गिर ना जाऊँ कही राह में चलते चलते,
मेरे प्यारे,
गिर ना जाऊँ कही राह में चलते चलते,
अपना दामन थमा दीजिये,
मेरे प्यारे,
अपना दामन थमा दीजिये,
दर्दे दिल की दवा दीजिए,
थोड़ा सा मुस्कुरा दीजिये,
मेरे कान्हा,
दर्दे दिल की दवा दीजिये…..

थक गया दुनिया के झंझटो से,
मेरे प्यारे,
थक गया दुनिया के झंझटो से,
आँचल में छुपा लीजिये,
मेरे प्यारे,
वृन्दावन में बसा लीजिये,
दर्दे दिल की दवा दीजिए,
थोड़ा सा मुस्कुरा दीजिये,
मेरे कान्हा,
दर्दे दिल की दवा दीजिये……

दर्दे दिल की दवा दीजिये,
मेरे प्यारे,
दर्दे दिल की दवा दीजिए,
थोड़ा सा मुस्कुरा दीजिये,
मेरे प्यारे,
दर्दे दिल की दवा दीजिए……

27. वृन्दावन के वृक्ष को

वृन्दावन के वृक्ष को,
मरम ना जाने कोय,
डारि डारि पर पात पात में,
श्री राधे श्यामा होय॥ )

गजब कर डारो री,
जा काली काँवर वारे ने,
काली काँवर वारे ने,
पिली पीताम्बर वारे ने,
गजब कर डारो री,
जा काली काँवर वारे ने…….

मन मोह लियो हँस हँस वाले,
चुनरिया पकड़ पकड़ ताने,
नैनो से जादू डारो रे,
जा काली काँवर वारे ने,
काली काँवर वारे ने,
पिली पीताम्बर वारे ने,
गजब कर डारो री,
जा काली काँवर वारे ने…..

जमुना तट रास रचावे,
मुरली की तान सुनावे रे,
भक्तन को आन उबारो रे,
जा काली काँवर वारे ने,
काली काँवर वारे ने,
पिली पीताम्बर वारे ने,
गजब कर डारो रे,
जा काली काँवर वारे ने……

निंदिया ना श्याम बिना आती,
राधा ललिता भेजत पाती,
उद्धव ने दियो सहारो रे,
जा काली काँवर वारे ने,
काली काँवर वारे ने,
पिली पीताम्बर वारे ने,
गजब कर डारो रे,
जा काली काँवर वारे ने…….

गोकुल में धूम मचावे रे,
संग राधा रास रचावे रे,
छोटो सो पवन को थारो रे,
जा काली काँवर वारे ने,
काली काँवर वारे ने,
पिली पीताम्बर वारे ने,
गजब कर डारो रे,
जा काली काँवर वारे ने……

28. हो ही गया है प्यार मुझे

तर्ज – मैने लाखो के बोल सहे

( तेरी सांवली सूरत से,
हो ही गया है प्यार मुझे,
दुनिया के देखे यार बहुत,
एक तू ही मिला दिलदार मुझे।
मेरे उजड़े इस गुलशन की,
अब तक ना मिली है बहार मुझे,
रसिक बिहारी देर ना कर,
झट से दिखला दीदार मुझे॥ )

मैने लाखो के बोल सहे,
सांवरिया तेरे लिए,
तेरे लिए श्याम तेरे लिए,
तेरे लिए श्याम तेरे लिए,
मैने लाखो के बोल सहे,
सांवरिया तेरे लिए……

देखि जब से सूरत प्यारी,
दीवानी भई श्याम तुम्हारी,
दीवानी भई श्याम तुम्हारी,
मेरे नैनो से नीर बहे,
सांवरिया तेरे लिए,
मैंने लाखो के बोल सहे,
सांवरिया तेरे लिए……

घर आँगन ना मोहे सुहावे,
तेरे दरश बिन चैन ना आवे,
तेरे दरश बिन चैन ना आवे,
मोहे पागल यूँ दुनिया कहे,
सांवरिया तेरे लिए,
मैंने लाखो के बोल सहे,
सांवरिया तेरे लिए…..

प्रीत लगा के भूल ना जाना,
मथुरा पूरी से जल्दी आना,
मथुरा पूरी से जल्दी आना,
तेरी याद में रोते रहे,
सांवरिया तेरे लिए,
मैने लाखो के बोल सहे,
सांवरिया तेरे लिए……

दिल में बसे हो मुरली मनोहर,
जनम जनम की तोरी धरोहर,
जनम जनम की तोरी धरोहर,
तेरे चरणों में प्रीति रहे,
सांवरिया तेरे लिए,
मैंने लाखो के बोल सहे,
सांवरिया तेरे लिए……

मैंने लाखो के बोल सहे,
सांवरिया तेरे लिए,
तेरे लिए श्याम तेरे लिए,
तेरे लिए श्याम तेरे लिए,
मैने लाखो के बोल सहे,
सांवरिया तेरे लिए…..

29. जब से देखा तुम्हे जाने क्या हो गया

तर्ज – एक तू जो मिला

( सुना था मेरा दिल,
अब तेरा धाम हो गया है,
दुःख दर्द भरी दुनिया थी मेरी,
पर अब आराम हो गया है,
सब काम किये है तुमने,
पर लख्खा का नाम हो गया है,
जब से मैं तेरा और तू मेरा,
मेरे श्याम हो गया है॥ )

जब से देखा तुम्हे जाने क्या हो गया,
ऐ खाटू वाले श्याम, मैं तेरा हो गया,
जब से देखा तुम्हे जाने क्या हो गया,
ऐ खाटू वाले श्याम, मैं तेरा हो गया……

तू दाता है तेरा, पुजारी हूँ मैं,
तेरे दर का ऐ बाबा, भिखारी हूँ मै,
तेरी चौखट पे दिल, है मेरा खो गया,
ऐ लीले वाले श्याम, मै तेरा हो गया…..

जब से मुझको ऐ श्याम, तेरी भक्ति मिली,
मेरे मुरझाये मन मे, हैं कलिया खिली,
जो ना सोचा कभी था, वही हो गया,
ऐ मुरली वाले श्याम, मैं तेरा हो गया…..

तेरे दरबार की वाह अजब शान है,
जो भी देखे वो ही तुमपे कुर्बान है,
तेरी भक्ति का मुझको नशा हो गया,
ऐ खाटू वाले श्याम, मैं तेरा हो गया……

शर्मा जब तेरी झांकी का दर्शन किया,
तेरे चरणो में तन मन, ये अर्पण किया,
एक दफा खाटु नगरी में जो भी गया,
ऐ मुरली वाले श्याम मैं तेरा हो गया……

30. हम प्रेम दीवानी है, वो प्रेम दीवाना है

हम प्रेम दीवानी है, वो प्रेम दीवाना है,
उधो हमें ज्ञान की, पोथी ना सुनाना……

तन मन जीवन श्याम का, श्याम हमारा काम,
रोम रोम में राम रहा, वो मतवाला श्याम,
इस तन में तेरे योग का, नहीं कोई ठिकाना,
हम प्रेम दिवानी है, वो प्रेम दीवाना है,
उधो हमें ज्ञान की, पोथी ना सुनाना……

उधो इन असुवान को, हरी सनमुख ले जाओ,
पूछे हरी कुशल तो, चरणों में दीयो चढाओ,
कहियो जी इस प्रेम का, यह तुच्छ नजराना,
हम प्रेम दिवानी है, वो प्रेम दीवाना है,
उधो हमें ज्ञान की, पोथी ना सुनाना…..

प्रेम डोर से बंध रहा, जीवन का संयोग,
सुमिरन में डूबी रहें, यही हमारा योग,
कानो में गूंजता करे, बंशी का तराना,
हम प्रेम दिवानी हैं, वो प्रेम दीवाना है,
उधो हमें ज्ञान की, पोथी ना सुनाना……

एक दिन नैन के निकट, रहते थे आठों याम,
अब बैठे है विसार के, वो निर्मोही श्याम,
कैसा वो जमाना था, और अब ये जमाना,
हम प्रेम दिवानी हैं, वो प्रेम दीवाना है,
उधो हमें ज्ञान की, पोथी ना सुनाना……

 

krishna bhajan lyrics, krishna bhajan lyrics hindi, radha krishna bhajan lyrics, radhe krishna bhajan lyrics in hindi, shri krishna bhajan lyrics, ravi raj krishna bhajan lyrics, krishna bhajan lyrics in hindi pdf, radha krishna bhajan lyrics, bhajan lyrics in hindi, krishna bhajan lyrics in hindi pdf, लिखे हुए भजन दिखाओ, कृष्ण भजन हिंदी,, पुराने भजन लिरिक्स, ढोलक पर कृष्ण जी के भजन लिरिक्स, कृष्ण भजन डायरी लिरिक्स, श्री कृष्ण भजन, राधा कृष्ण के न्यू भजन, सुंदर कृष्ण भजन, कृष्ण भजन List, कृष्ण भजन हिंदी में लिखित, राधा-कृष्ण के भजन लिखे हुए, कृष्ण भजन Lyrics, नई भजन लिरिक्स

 

1 thought on “कृष्ण भजन डायरी लिरिक्स || krishna bhajan lyrics hindi”

Leave a Comment